dil ko chu jane wali shayari, dil chu lane wali shayari hindi mei

दिल को छू लेने वाली शायरियाँ हिंदी में 

दिल को छू जाने वाली शायरी और दिल को छूने वाली दिलकश शायरी हिंदी में दिसंबर की सर्दिया और चाय की चुस्किया के साथ दिल को छू लेने वाली शायरी और दिल छू लेने वाली शायरी हिंदी में  पडिए और आनंद लीजिये आपको ऐसी कुछ बेहतरीन लफ्जों से नवाजी गयी और दिल को छू लेने वाली शायरी के साथ मजा लीजिये और अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये धन्यवाद दोस्तों।

                                                                     
                                                     मोहब्बत गुनगुनाती ख्वाब वाली शायरी 

dil chu lane wali shayari in hindi mei
dil ko chu lane wali shayari

तेरी यादें हर घुट में जमी है शायरी 

हर घूंट में तेरी याद जमी है..

मै यह कैसे कह दूं कि चाय में कुछ कमी है...!!


                                                       तेरी जुल्फों का सबब है गहरा शायरी 
तेरी जुल्फों के बिखरने का सबब है गहरा कोई..
तेरी आंख कहती है कि तेरे दिल में तलब है कोई...!!


दिल की किताब में आयते मेरे नाम की शायरी 

उसके दिल की किताब में सारी मेरी ही आयतें हैं..
इक इश्क़ लिखा है अधूरा सा बाकी मेरी शिकायते हैं...!!


आंखें तुम्हारी शायरी 

बहुत पढ़ ली आंखे तुम्हारी..
अब तेरे साथ इश्क का कलमा पढूंगी...!!

मौहब्बत गुनगुनाती ख़्वाब में डूबी हुई आँखें.
ग़ज़ब हैं यार के आगोश से बहकी हुई बाँहे…!!

आ तुझे जन्नत से मिलाव शायरी 

dil ko chu lene wali shayari hindi mei
dil ko chu lane wali shayari


जिस्म से खेलने की हिम्मत न हुई शायरी 
मेरी बाँहों में वो सोई रही रात भर..
इश्क़ ने जिस्म से खेलने की हिम्मत ना की...!!

तुम्हारा चांदी का कमरबंद शायरी 
हाये चांदी का तुम्हारा कमरबंद..
मेरे दिल को कर दिया नजरबंद…!!


मुझ पर उतारो तुम अपनी बाहों की हरारत..
रख दो इस दिसम्बर को तुम फिर से जून करके...!!


रूह छूने वाली मोहब्बत  शायरी 
उन आँखो में देखनाऔर बस देखते रहना..
मौन होकर भी रूह छूने का तजुर्बा है हमें...!!



प्रेमीका खुली जुल्फ़ों में बेफ़िक्री से घुमती है..वो पत्नी है साहब जिम्मेदारियों को..समेट अक्सर जूडा बांध लिया करती है…!!

हमें इस सर्द मौसम मे तेरी यादें सताती हैं..
तुम्हें एहसास होने तक दिसम्बर बीत ना जाये...!!

तेरी गंगा से पवित्र छुवन शायरी 
कल तेरी गंगा सी पवित्र छुअन से मैं पारस हो गई..
डुबकी जो ली आंखों ने तेरी आंखों मे मेरी आत्मा बनारस हो गई...!!


आज फिर तुझे माँगा मंदिर में शायरी 
एक बार फिर ये दिल लगा सीमा लाँघने..
मैं आज फिर गई थी मन्दिर में तुझे माँगने....!!


दूल्हे को अफ़सोस शायरी 
सहेली की शादी में सज धज के जाना भी..
ऐसा गुनाह हो गया के दुल्हे को भी..
अपने फैसले पे अफसोस हो गया!!


न वो सूरत दिखाते हैं न मिलते हैं गले आ कर..
न आँखें शाद होतीं हैं न दिल मसरूर होता है...!!

में चूमना चाहती हु शायरी 
dil chu lene wali shayari hindi mei
dil chu lane wali shayari in hindi 



मिलने की तगदीर नजर आई शायरी 

जब भी तुमसे मिलने की तक़दीर नज़र आई..
मुझे पाँव में बँधी ज़ंजीर नज़र आई..
तेरी याद में निकल पड़े मेरे आँसू..
हर आँसू में तेरी तस्वीर नज़र आई...!!


हर रोज दिल की सुनता हु शायरी 
एक दिन मैंने दिल की सुनी थी..अब हर रोज़ दिल मुझे सुनाता है...!!

ऐसी मोहब्बत जिसमें केवल नफरत हो शायरी 
आसान है क्या ऐसी मोहब्बत करना..
जिसके बदले नफरत के सिवा कुछ ना मिले...!!


सुनो जान..मैं चूमना चाहती हूँ..तुम्हारी नींद का सबसे खूबसूरत हिस्सा..हो सके तो मिलना कभी जागने के ठीक पहले…!!



तुम लौ हो जलते दीपक की शायरी 


तुम लौ हो जलते दिए की मैं हूँ घनघोर अंधेरा सी..
तुम शब्द-शब्द से सुंदर हो मैं हूँ अनपढ़ अँगूठा सी....!!

सर्दी की सुबह शायरी 
तेरी इन अधूरी ख्वहिशो में सुकूँ हैं..सर्दी में सुबह की नींद से भी ज़्यादा...!!

नजरे उठा कर मिलना शायरी 
मुझसे जब भी मिलना नजरें उठाकर मिलना..
मुझे पसंद है अपने आप को तुम्हारी आँखों में देखना...!!

हवामहल के सामने तुझे चाय पिलाव शायरी 
सुनो जान
मिलो किसी सर्दी वाली सुबह मेरे शहर में तुम्हें जन्नत से मिलाऊं..हवामहल के सामने बालकनी में तुम्हें चाय पिलाऊं...!!

बेला गोरा जूही गोरी उससे गोरी चाँदनी..उससे गोरा मुखड़ा तेरा, जिस पर मुझको नाज है...!!

तेरा गुनहगार हूँ शायरी 
तेरा दिल दुखाया तेरी गुनाहगार हुं मैं..चाहे जो सजा देदे तेरी खामोशी नहीं सह सकती मैं...!!

पल भर ही सही तेरी तगदीर होना है शायरी 
जब भी मिलूँ मैं तुमसे कसकर थाम लेना मेरी हथेली को..पल भर को ही सही तेरी तकदीर में समाना चाहती हूँ...!!


तुझसे जोड़ दिया शायरी 
ख़ुद को तुझसे जोड़ दिया है..बाकी सब तुझ पर छोड़ दिया है...!!


वैसे तो मैं छुने न दुं तुम्हें अपने पांव कभी..लेकिन अपने हाथों से पायल पहनाओ तो सोचा जा सकता है...!!


गुलाब काटों की गोद में शायरी 
कितना महफ़ूज था गुलाब काँटो की गोद में..लोगो की मुहब्बत में पत्ता पत्ता बिखर गया...!!

तुम्हारे बदन की खुशबु शायरी 
तुम्हारे बदन की खुशबू बिल्कुल वैसी हैं..
जैसेमैने उबलते दूध में चाय पत्ती डाली हो...!!


तुझी में हु शायरी 
सुनो जान जुड़ी सभी से हूँमग़र..डूबी सिर्फ़ तुझी में हूँ...!!


न जाने मेरी किस्मत कब मेहरबान होगी..
एक मैं एक तुम और हाथों में हमारे चाय होगी...!!

रात की ख्वाइशे दबी रह गयी शायरी 
रात में ख्वाहिशें कुछ यूं दबी सी रह गई..
ख्वाब में तुमको ढूढते ढूढते बस सुबह सी हो गई...!!


हजारों ख्वाब मरते है शायरी 
हज़ारों ख़्वाब मरते हैं तो इक मिसरा निकलता है..
ज़रा सोचें ''ग़ज़ल'' कितने जनाज़ों की कमाई थी...!!

दिसंबर की सर्द हवा शायरी 
लिपट-लिपट के कह रही है ये दिसंबर की सर्द हवाएं..
जनवरी आने से पहले मुझे एक बार गले से लगा लो...!!


आवारगी का मौसम जनवरी वाला शायरी 
डूबता सूरज ठन्डी हवा ये और ये आवारगी की मौसम..
हम तेरे शहर में होते तो तेरी बाहों मैं चले आते...!!

दो पल न दू तेरे सिवा शायरी 
तेरे सिवा किसी को दो पल ना दूँ..
दिल तो दूर की बात है जानां...!!

तुम्हारी आखों में देखना है शायरी 

dil chu lane wali shayari hindi mei
dil chu lene wali shayari hindi mei 



मोहब्बत बेइंतहा क्यू होती है शायरी 

कहते है की हर चीज की एक इंतहा होती है..
फिर क्यूँ ये मोहब्बत बेइंतहा होती है...!!


बिन सलाखों के कैद खाने शायरी 
कैद खानें हैं बिन सलाखों के..
कुछ यूँ चर्चे हैं तुम्हारी आँखों के…!!


बारिश होने लगी शायरी 
मैंने दीवार पर क्या लिख दिया ख़ुद को..
बारिशें होने लगी मुझको मिटाने के लिए...!!


लैला और मजनू की नोकझोक शायरी 
बज़्म-ए-इश्क़ में चलता रहा काफला सेहरा बा सेहरा..
न लैला ऊंट से उतरी  न पीछा मजनू ने छोड़ा…!!
कभी चढ़ाती त्योरियां कभी हल्की सी मुस्कान..
मेरी जान यही तो है इश्क़ की पहचान…!!


दिसंबर भी १३ साथ है शायरी 
मेरा अपना कुछ नहीं रे..
देख आज तो दिसम्बर भी 13 है...!!


कमेंट्स और लाइक वाली मोहब्बत शायरी 

दो comments और चार likes मे महोब्बते कही जाती..
तो..दाँसताने ऐ लैला मजनु ऐसे ही नही लिखी जाती...!!



कभी रातों में रोये शायरी 
कभी दिन में बहे आंसू कभी रातों में रोए हैं..
मगर वो जब भी रोए हैं मेरी बातों से रोए हैं...!!


इश्क़ है तुमसे शायरी 
आदत है तुम्हारी या इश्क़ है तुमसे..
पता नहीं मगर जो भी है  बहुत ख़ूब है…!!


मेरे हिस्से का भी मुस्कराया कर शायरी 
अपनी सारी उदासियाँ तू मुझे दे दे..
तू मेरे हिस्से का भी मुस्कुराया कर...!!


मिलन की तैयारी कर जनवरी आ गयी शायरी 
ऐ यार तेरे ख्यालों का मौसम और ये सर्दियों की हवा..
मिलन की तैयारी कर दिसंबर आ गया है...!!


मोहब्बत की सल्तनत का सुल्तान शायरी 
दिल अगर रखते हो तो हम जैसे किसी दिलदार को दो..याद रखनाबर्बाद हो जाती है वो सल्तनत जिसका कोई सुल्तान नहीं होता...!!



चालाकियां नही आती मुझे तुम्हे रिझाने की..
मेरी सादगी पसन्द आये तो बात आगे बढ़ाना...!!


धीरे से मुश्कराये शायरी 
इक नजर मिलते ही वो धीरे से मुस्कुराये..
बेनाम रिश्तो की मियाद बस इतनी ही थी...!!

दरिया का किनारा शायरी 
अंजाम की तो खबर नहीं, आग़ाज-ए-मोहब्बत तो देखो..
दरिया के इक किनारे ने दूसरे से मिलने का ख्वाब देखा है....!!

कैदी अपनी चाहत का शायरी 
बनाकर रख लो मुझे कैदी अपनी चाहत का..
बिछड़कर तुमसे मुझे जीना नहीं आता...!!

जनवरी की सर्दी में उसके हाथ की चाय शायरी 
पका कर इश्क़ धीमी आँच पर..
उसमें वफ़ा का रंग मिलाया है..घोली है चाशनी ज़रा सी मोहब्बत कीथोड़ा सा प्यार खुश्बू सा मिलाया है..चाय का कुल्हड़ और इंतजार तुम्हारा...!!




ज़िंदगी की बात में वो बात कहा शायरी 

कुछ तो मेरे लफ्ज़ो में शक्कर कम हैकुछ अंदर से हम भी कड़वे हैतुम्हारी बातों में जो ज़िंदगी है...ज़िंदगी में वो बात कहां..




चाय और उसका ठंडा हाथ शायरी 

चाय उसके हाथ से लेते वक़्त उसका हाथ..
अपने हाथ में लेते हुए मैंने सोचादुनिया को..
हाथ की तरह गर्म और सुंदर होना चाहिए...!!

संग बैठ कर चाय पिणि है जनवरी  में शायरी  
जो हर सुबह खुद के लिए धीमी आंच पर पकाती हो..संग तुम्हारे बैठ कर पीना है किसी दिन..वो तेरी जुल्फ की मदहोश सी खुशबू..संग चाय के उसे भी मुझे चखना है एक दिन...!!
दिल में याद रहेगी तेरी इस बात की..एक आहट सी हुई है तेरे जज्बात की..अब तो सांसे भी चलती है इसी उमीद से..जाने कब खबर आए तुमसे मुलाकात की...!!

Post a Comment

0 Comments