Saree wali Romantic shayari, banarasi saree wali mohtrma

बनारसी साड़ी वाली रोमांटिक शायरी  और नटखट शायरी 


दोस्तों आज साड़ी वाली रोमांटिक शायरी और बनारसी साड़ी वाली मोहतरमा कुछ खास साड़ी पर शायरी है आपको बहुत पसंद आयेगी और दोस्तों कुछ रोमांटिक लवली शायरिया भी पड़ने को मिलेगी पिक्चर के साथ 
आप पढ़िए और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कीजिये मेरी साड़ी वाली रोमांटिक शायरी और बनारसी साड़ी वाली मोहतरमा शायरी को प्लीज मुझे आपके सहयोग की जरुरत है धन्यवाद.


                                                   तेरी पायल की झंकार का दीवाना हु में 

                                                                   
कुछ और नहीं करना मुझको तुझे दीवाना बनाने के लिए.
मेरी पायल की झंकार ही काफी है तेरे दिल को धड़काने के लिए




मेरी नींदे उड़ा देती है तेरी पायल की झंकार  शायरी 



वो जो दबे पांव आ के मेरी नींद उड़ा जाती है..
तेरा आना तो गज़ब ढायेगा तेरे पायल की
झंकार ही काफी है...!!





तेरे होटों  की लाली शायरी 



एक तो गर्म चाय की प्याली और ऊपर से तेरे होठों की लाली..
 कसम से पुरा  शहर अब समझने लगा मुझे और तुझे  है मवाली...!!




भीग कर तेरी चाहत में शायरी 


भिगोकर अपनी चाहत से
मेरी उलझी लटों को तू संवार दे..
भार के मुझे तू अपनी बाहों में
सर पे धानी चुनर तू मुझे ओढ़ा दे...!!




saree wali ka ashikana andaaj
photo credit- facebook group- shayarana andaaz



हरी चुडिया और पायल की  शायरी 



पहनाकर कांच की हरी चुडियां,
पांव में बिछुआ और पायल सजा दे..
रोम रोम मेरे  खिल जाए पिया
जब तू मुझे अपने हाथों सजा दे...!!








जब-जब तेरे होठो से भिन्गी मेरे होठो की लाली
बालों का गजरा है इसमें दो नयनों का काजल है..
बिंदिया कुमकुम रोली कंगन घुंघरू वाली पायल है
जाग  गई ओ तन बदन की सोई हुई पंखुडिया अरमान लेकर ...!!




तू मिश्री सु मीठी शायरी 

saree wali shayari image
photo credit- facebook group- shayarana andaaz





तेरे हुस्न का क्या बयां करूँ तू सुन्दरता की मूरत है
तू जब भी मुस्काती है, फिज़ाओ में बहार आ जाती है
सजने सँवरने की तुम्हें क्या जरूरत है
तुम्हहरी तो सादगी ही क़यामत ढाती है...!!




नागिन सी जुल्फे साड़ी वाली की  शायरी 


क्या कहूं तेरी नागिन सी जुल्फों का आलम
प्यारी लगती है तेरे माथे की वो बिंदिया काली..
तेरे नाक की सुंदर नथनी, गले में दमकता वो सुंदर हार 
मुझे सुंदर लगती है एक तेरे कान की बाली...!!



 लबों की मुस्कराहट शायरी  


तेरे लबों पर मुस्कराहट का साज़ अच्छा हैं
शायद इन आँखों में मेरी तस्वीर का आगाज़ अच्छा है..
रुखसार पर लाली बिखरी हुई यूँ हया से
शायद मेरे सवाल का जवाब अच्छा हैं...!!


तेरे इश्क़ का विस्तार शायरी 


saree wali shayari image
photo credit- facebook group- shayarana andaaz



तेरे होठों को चूमना है मुझे शायरी 



जामुन की लाली लगाकर तेरे होठो को चूमना है मुझे..
आना कभी दिल्ली तेरे साथ इंडिया गेट घूमना है मुझे...!!





दिलदार की खूबसूरत मोहब्बत शायरी 



दिलदार ए मोहोब्बत ये खूबसूरती दीवानी हैं
खो जाये महफिलों में ये नादान जवानी है..
होश उड़ा देतीं हैं तेरे होठों की वो लाली
तेरे जुल्फों में खोने की इजाजत माँगता हूँ...!!






मुझे देखते ही लिपट गये कर गए शिकवे हजार..
वो केशर की रंगत वाली ढांका सिल्क की साड़ी...!!




रस्के  कमर वाली शायरी 


मेरे रस्के कमर तुने आलू मटर
इतना अच्छा पकाया मजा आ गया..
भूख भी मिट गई पेट भी भर गया
मुझको इतना खिलाया मजा आ गया ...!!






खास हमें भी कोई रस्केकमर मिल जाये..
तो साथ साथ हमारा भी आलू मटर हो जाये...!!




saree wali ke nakhre shayari image
photo credit- facebook group- shayarana andaaz




जिस्मो की रंगत वाला इश्क़ 


ज़िस्मों की रंगत साड़ी छुपाती है
यौवन को बेवजह नारी छुपाती है..
मेरा रंगरेज़ उस जगत में जा बैठा
जहाँ हर शै कुँवारी नज़र आती है...!!





वो सुर्ख गुलाबी साड़ी वाली का बदन शायरी 




वो सुर्ख गुलाबी साड़ी जब लिपटती है तुम्हारे बदन से..
तुम्हारे चेहरे की रंगत देख, सूरज भी जल उठता है
अपने ही अगन से...!!




मेरे गले का हार तुम शायरी 


मेरे गालों की लाली हो मेरे कानों के झुमके हो
गले का हार बनके तुम सदा मेरे गले रहना..
मेरी चुनरी की लहरे हो मेरी साड़ी में ठहरे हो
सदा तुम ओढ़नी बनकर मेरे सर पर सजे रहना...!!



जुल्फों की जन्नत की छाव शायरी  

saree wali shayari image
photo credit- facebook group- shayarana andaaz


सोलह सिंगार वाली शायरी 


मेरी साड़ी मेरा सलीका पहनावा तौर तरीका है
ये सोलह श्रृँगार भी मेरा मेरे सुहाग का टीका है..
बच्चा पकड़े पल्लू तो माँ की ममता बन जाता हैं
प्रियतम पकड़े पल्लू मेरा तो एक-मनुहार बन जाता हैं...!!



मनमस्त मचल रहा है शायरी 


मनमस्त मयूरा मचल रहा अब पास तेरे आ जाने को..
साड़ी का पल्लू पकड़ वफा के गीत मधुरतम गाने को...!!







देख तेरे होठों की रंगत चेहरे का कमल बताने को..
कलम मचलने लगती है आँखों पे गज़ल बनाने को...!!


इश्क़ भरी चाय  शायरी 



banarashi saree wali ki chai shayari
photo credit- facebook group- shayarana andaaz





साड़ी का पल्लू कहर ढाता है शायरी 


साड़ी का पल्लू नाफ से हटाया न करो..
चाँद अब्र के पीछे हो तो कहर ढाता है...!!
     



 दिल में हलचल शायरी  


वो जब साड़ी का पल्लू अपने हाथ पर लेते हैं ..
जवां दिल पर न जाने कितनी हलचल मचा देते हैं ...!!




साड़ी वाली का हरा सिगनल शायरी 



साड़ी के पल्लू को संभालती वो तेरी मुझ पर नजर ..
मेरे ख़्वाबों की बेचैनी को हरा सिगनल सा लगता है ...!!




साड़ी वाली अप्सरा लगती हो शायरी 



साड़ी पहना करो अच्छी अप्सरा सी  लगती हो ..
सुखे पत्तों के बीच गुलाब की पंखुड़ी लगती हो...!!





साड़ी वाली को देख कर प्यार आता है शायरी 



छोटी ड्रेस वाली लड़कियों की प्रोफाइल पिक
देखकर तो मैं खुद को संभाल लेता हूं..
पर ये साड़ी वाली लड़कियां जीने नहीं देतीं
देखते ही प्यार आ जाता है अब क्या करू ...!!






सुनो मेरी जान

तेरे एहसास से जुड़ी हर एक चीज़ को संभाले रखा है..
तुझसे शुरू हुई दास्तां का नाम हमने इश्क रखा है...!!


तुम्हारा जलवा हर तरफ शायरी 
saree wali shayari image
photo credit- facebook group- shayarana andaaz

सुबह की कड़क चाय शायरी 


मै सुबह की कड़क चाय जैसी..
तु शाम का छलकता जाम प्रिये...!!



मोती मेरी नथ का शायरी 


काश तुम होते मोती मेरी नथ का ..
बोसा कभी रुखसार का लेते कभी लब का...!!




सुनो जान

आज अपनी मोहब्बत पर कोई किताब लिखते है..
तुम इश्क लिखकर शुरुवात करो
हम कबुल है कबुल है कहकर पुरी करते है...!!





आसमान में चांद तारे सब हैं लेकिन..
मेरी जिंदगी में रोशनी तेरे होने से ही है...!!





सुन ओये हीरो 

जब से सुना है तुझको चाय पसंद है..
कुछ ऐसे भी खुद को सजा लिया है मैंने...!!




सारी वाली के गीले बाल शायरी 

बहुत सुकून दिया था मुझे मेरी जान
तुम्हारा मेरे गीले बालों पे यू हाथ फेरना..
ऐसा लगा था जैसे धड़कने मेरी
तुम्हारी उंगलियों पे थिरक रही हो...!!



इश्क़ का सर दर्द साड़ी वाली को शायरी 

saree wali shayari image
photo credit- facebook group- shayarana andaaz




सुनो जान ठण्ड आ गई  शायरी 


 हल्की सी ठंड अदरक की चाय और..
तेज शक्कर सा है मेरे लिए तेरा इश्क...!!



साड़ी वाली के जवान अरमान शायरी 


मेरे माथे पर दिए तुम्हारे सारे चुम्बन 
मेरे हाथों पर तुम्हारी उंगलियों की पकड़ ..
जितनी रातें और वो दिन हमने साथ चखे..
उनका स्वाद अमृत सामै उसकी दिल की है ..
बात तो नही जानती पर हां अल्फाजों में मैं ही रहती हूं...!!





फेसबुक वाला प्यार शायरी 


फेसबुक पर वो शायर है यारो..
हां मै उस शायर से प्यार करती हूं ...!!



मेरे चेहरे पर तेरी चाहत का तिल शायरी 


saree wali image shayari
photo credit- facebook group- shayarana andaaz

बनारसी इश्क़ शायरी 

हुस्न धतूरा दिल मंजीरा चल धूनी रमाते हैं
शाम सुहागन रात बंजारन चल चिल्लम जलाते हैं..
मन बनारस तन बनारस चल ना इश्क़ लड़ाते हैं
मन मंदिर के आँगन में हुस्न का जाम चढ़ाते है...!!



पलकों का समंदर शायरी 


"पलकों" पर "रूका" है "समंदर" तेरे
"खुमार" का..
"कितना" "अजब" सा "नशा" है तेरे
"इंतज़ार" का...!!



मौसंम सर्दी का शायरी 


ख़ुदा करे कि तुमको "जुदाई" न मिले
कभी भी तुमको" तन्हाई" न मिले..
मुझे मैसेज न करो तो कुछ ऐसा हो कि
मौसम हो सर्दी का और तुमको रजाई न मिले...!!



साड़ी वाली नजर उतार लेना शायरी 


घर जाते ही अपनी नजर उतार लेना..
हमने इश्क की नजरों से देखा है तुम्हें...!!



बेकरारी के साबुत दे साड़ी वाली शायरी 

saree wali shayari
photo credit- facebook group- shayarana andaaz



काजल सजा दू आपके शायरी 

आँखे जल रही होगी तुम्हारी मोबाइल चलाते-2 ..
आओं रात से काजल चुराकर तुम्हारी आँखों में सजा दूँ...!!






चिलमन के शाये शायरी 

नजाकत उन लम्हाें की न पूछाे मेरी जान..
जाे तेरे चिलमन के सायें में बिताते है हम...!!




कलाई का साइज  शायरी 



अपनी कलाई का साइज़ बता..
मेरी तनख्वाह आ चुकी है अब...!!




साड़ी वाली की रात को तबियत ख़राब होती है शायरी 



रात क्या होने लगी तबीयत ख़राब होने लगी..
दवा लेकर..
वो आ रहे हैं जमाने से ये ख़बर मिलने लगी...!!



साड़ी वाली की महफ़िल और बेकरारी शायरी 

saree wali shayari image
photo credit- facebook group- shayarana andaaz




दुल्हन वाली शायरी 

मेरे ठहाकों से गूंजा करता था पूरा घर कभी..

दुल्हन क्या बनी  तहजीब से मुस्कुराना सीख गई...!!




दिसंबर की सर्दी शायरी 

हल्की सी सर्द हवा जरा सा दर्द ए दिल..
अंदाज अच्छा है दिसम्बर तेरे आने का...!!



इश्क़ नवम्बर वाला शायरी 

जरा अपना ध्यान रखना दोस्तों ..
सुना है इश़्क नवंबर में ही शिकार करता है...!!




ऐ सर्द रातों के फरिस्ते  तेरी याद बहुत आएगी शायरी 



तुम्हारे साथ ये सर्द रात फ़रिश्तों जैसी है..
तुम्हारे बाद ये सर्द रात बहुत सताएगी...!!

Post a Comment

0 Comments