sacchi bate shayari , sachi baten, sachi batein Hindi mai

The True line of life 


Sacchi bate, sachi baten, Sachi batein Hindi mai sahyari best line of true fact of life in Hindi language and true talks in hindi best sachi baten hindi mai share this page plz Life quote Hindi mai sachi batein Hindi mai best line of shayari Hindi mai.






गवार और पड़े लिखे में अंतर आज के समय सच्ची बातें .....

जब हमारे बुजुर्ग गंवार थे तो नेता पढ़ा लिखा चुनते थे..

और अब हम पढ़-लिख गए तो नेता गंवार चुनते हैं..

गज़ब का बदलाव आया है पढ़ लिख कर…!!



धर्म कभी खतरे में था ही नहीं थी तो केवल नेता वो की कुर्शिया.... 

अगर धर्म खतरे में होता तो महाराणा प्रताप का..

सेनापति मुस्लिम और अकबर का सेनापति हिन्दू..

नही होता खतरे में धर्म नही इनकी कुर्सी है…!!



माँ का मिनी ATM बेस्ट लाइन शायरी.. 


पल्लू के छोर में रुपये बांध कर रखती थी..

मेरी माँ भी एक छोटा सा Atm रखा करती थी…!!



8 वी फैल नेता सविधान में कमिया निकलता है.... 

संविधान लिखने वाले बाबा साहब अम्बेडकर के

पास  लगभग 32 डिग्रियों और कई भाषाओं का ज्ञान था..

आज 8वीं फेल आदमी उसमें कमियां निकाल रहा है…!!


 दहेज़ की जद  देखो बाप खरीद कर देता है दूल्हा बेटी को.... 


बढ़ती हुई "दहेज" की "लानत" तो देखिए..

देता है "बाप" बेटी को "पति" खरीदकर...!!



कभी किसी पेड़ के कटने का किस्सा ना होता..
अगर कुल्हाड़ी के पीछे लकड़ी का हिस्सा ना होता...!!


 वेश्यालय होते नहीं अगर इंसानियत होती तो  सच्ची बातें.... 

रोग अपनी देह में पैदा होकर भी हानि पहुंचाता है..
और..
औषधि वन में पैदा होकर भी हमारा लाभ ही करती है…!!


 अपना पराया कौन हितेषी है अब यह... सच्ची बातें... 

"हित" चाहने वाला "पराया" भी अपना है और..

"
अहित" करने वाला "अपना" भी पराया है…!!


नायब पुरुष और मोहब्बत  सच्ची लाइन ....
 sacchi bate, sachi baten, sachi batein hindi mai
sachi batein Hindi mai 

नायाब होते हैं वो 'मर्दजिनके 'किरदारकी खुशबू पा कर..

'औरतखुद 'मोहब्बतका इज़हार करती हैं...!!


 सब दुखी है यहाँ ज़माने में ....  सच्ची बातें.. 
कोई अपनों से "दुःखी" हो जाते है और..
कोई अपनों के लिए "दुःखी" हो जाते हैं…!!


 ज़िंदगी खूबसूरत है बस  खुल कर जीवो.... सच्ची बातें 

ये जिन्दगी बड़ी "खूबसूरत" है इसको हमेशा "मुस्कुरा" कर जीयो
क्योंकि माने तो सब "अपने" हैं और..
नहीं तो अपने भी "पराए" हैं…!!



 बूढ़ा बाप और औलाद... सच्ची बातें..... 
sachhi bate, sachi baten, sachi batein Hindi mai
sachi batein Hindi mai



उसे पता है औलाद गालियां देंगी ..

वो बूढ़ा बाप अब खाँसता भी नही …!!


होते हैं चैन के पहर सबके हक में..
इक 'माँ' के हक में मैंने सुकून का 'इतवार' नहीं देखा…!!



 मंदिर और मज़ीद की हक़ीक़त  सच्ची बातें.... 

true talk in Hindi mai
sachi batein Hindi mai



बेजुबान पत्थर पर लदे है करोडो के गहने मंदिरो में..

उसी दहलीज पर एक रूपये को तरसते नन्हे हाथो को देखा है…!!



सजे थे छप्पन भोग और मेवे मूरत के आगे..

बाहर एक फ़कीर को भूख से तड़प के मरते देखा है…!!



लदी हुई है रेशमी चादरों से वो हरी मजार..

पर बाहर एक बूढ़ी अम्मा को ठंड से ठिठुरते देखा है…!!




true talk in Hindi mai
sachi batein hindi mai

वो दे आया एक लाख गुरद्वारे में हॉल के लिए..

घर में उसको 500 रूपये के लिए काम वाली बाई को बदलते देखा है…!!




सुना है चढ़ा था सलीब पे कोई दुनिया का दर्द मिटाने को..

आज चर्च में बेटे की मार से बिलखते माँ बाप को देखा है…!!



पुजारन लाइन सच्ची बातें ...


जलाती रही जो अखन्ड ज्योति देसी घी की दिन रात पुजारन..

आज उसे प्रसव में कुपोषण के कारण मौत से लड़ते देखा है…!!




बेटी का विवाह एक बाप की मज़बूरी और पीटती बेटिया... 

true talk In Hindi mai
sachi batein hindi mai


दे के समाज की दुहाई ब्याह दिया था जिस बेटी को जबरन बाप 

ने..

आज पीटते उसी शौहर के हाथो सरे राह देखा है…!!



 मर गया पंडित जो लकीरो में माहिर था सच्ची बातें... 

मारा गया वो पंडित बे मौत सड़क दुर्घटना में यार..


जिसे खुद को काल  सर्प तारे और हाथ की लकीरो का माहिर लिखते देखा है…!!


आँगन में खींचती दीवारे सच्ची बातें.... 

जिसे घर की एकता की देता था जमाना कभी मिसाल दोस्तों..


आज उसी आँगन में खिंचती दीवार को देखा है…!!



बन्द कर दिया सांपों को सपेरे ने यह कहकर..

अब इंसान ही इंसान को डसने के काम आएगा...!!




गिरगिट और इंसान एक जैसा बन गया सच्ची बातें... 


आत्म हत्या कर ली गिरगिट ने सुसाइड नोट छोडकर..


अब इंसान से ज्यादा मैं रंग नहीं बदल सकता…!!



गिद्ध भी कहीं चले गए लगता है उन्होंने देख लिया..

कि इंसान हमसे अच्छा नोंचता है…!!



  पाठशाला से ज्यादा मेरे शहर में  मधुशाला है सच्ची बातें... 

कैसे ज़िंदा रहेगी तहज़ीब मेरे शहर मे..

पाठशाला से ज़्यादा तो मधुशाला है मेरे शहर में…!!





महक गुलाब की आएगी तुम्हारे हाँथों से..

किसी के रास्ते से कांटा हटाकर तो देखो…!!




रद्दी समझ के आपने बेचा था कल जिसे..

मुझको उसी किताब ने जीना सिखा दिया...!!



हवस की देन है वेश्यालय सच्ची बातें... 

हमारी ही हवस की देन है बाज़ार की ज़ीनत..


अगर हम में हया होती तो ये कोठे नही होते…!!





पत्थरों की शिकायत है कि पानी की मार से टूट रहे है हम..

पानी का गिला ये है कि पत्थर हमें खुलकर बहने नही देते…!!


औलादों की कहानिया माँ बाप के लिए  सच्ची बातें..... 

true talk in Hindi
sachi batein Hindi mai



जिसने न दी माँ बाप को भर पेट रोटी कभी जीते जी..

आज लगाते उसको भंडारे मरने के बाद देखा है…!!


बूढ़े माँ बाप और औलादें  सच्ची बातें... 

true talk in Hindi mai
sachi batein in hindi mai



औलाद का बोझ तो माँ बिन पाँव भी उठा लेगी..

बुढापा ही भारी होगा जब औलाद उसे ठुकरा देगी…!!




अब तो बेटे भी चले जाते हैं होकर रूखसत..

सिर्फ बेटी को ही मेहमान न समझा जाए...!!



वक्त की धारा में अच्छे अच्छों को मजबूर होते देखा है..

कर सको तो किसी को खुश करो..

 दुःख देते हुए तो हजारों को देखा है...!!




Post a Comment

0 Comments