शायराना अंदाज़ हिंदी शायरी रोमांटिक शायरी लव शायरी

शायराना अंदाज़ हिंदी शायरी दोस्तों आज मस्त मस्त शायरी का एक और जखीरा ले आया हु पढ़िए और अपने दोस्तों को भी सुनाइये और शेयर करना न भूले दोस्तों 










****************************************************


सुनो....
तु तो गुलाब है चमेली है कमल है गुलबदन है
हमदम है हरदम हर कदम है हर पल ताज़ा है..
रंग सलोना साँवला आसमां से मेरे लिए आई अप्सरा
मुखड़ा इतना मासूम के झूठ बोले तो भी कर ले यकीन...!!

****************************************************


सुनो

मैं अब ऑनलाइन नहीं आऊगी क्योंकि..

ब्वॉयफ्रेंड पाने के लिए घोर तपस्या करने जा रही हूँ...!!


****************************************************



मन करता है कभी-कभी तुझे मैं यूँ सताऊं..

तू इंतज़ार करे मेरा और मै आना भूल जाऊँ...!!


****************************************************


****************************************************

अरे ठहरिए मुहब्बत अभी और भी रंग दिखाएगी..

अभी तो मैं डूबा हूं अभी तो मेरी लाश ऊपर आएगी...!!


****************************************************


अंगूठी तो मुझे लौटा रहे हो..

अंगूठी के निशां का क्या करोगे...!!


****************************************************



सैकड़ों शिकायतें रट रखी थी उन्हें सुनाने को किताबों की तरह..

वो मुस्कुरा के ऐसे मिले  कि एक भी याद नहीं आई...!!



****************************************************


**************************************************** 
 तुम्हारे लिए मर मिटने का इरादा था..

तुम खुद ही मिटा दोगे ये सोचा न था…!!


****************************************************



जानते हो ये बारिश क्या है..

तेरे-मेरे बीच की दूरियों का पिघलता मौसम…!!



****************************************************


हर एक लकीर एक तजुर्बा है..

झुर्रियां चेहरों पर यूँ ही आया नही करती...!!


****************************************************


हुस्न का भाव अभी और बढ़ेगा शहर मे यारों..


दो आशिकों ने एक ही महबूब को चुन लिया है...!!



****************************************************



****************************************************


मौसम तो तन बदन में आग लगा कर मानेगा..

और अल्फाज़ जो गुदगुदी कर रहे उसका क्या करुँ...!!


****************************************************


उनके शहर में बारिश होने के बाद मेरे शहर में बारिश होती है..

ये बरसात भी अब हम दोनों को साथ भीगने नही देती है...!!


****************************************************



होंठो की पँखुडियां गुलाब लगती हैं 
कज़रारी तेरी आँखें श़राब लगती हैं ..

जिक्र करूँ क्या तेरी मधुर मुस्कान का
तेरी बलखाती अदाएँ महताब लगती है ...!!



****************************************************

****************************************************

सुन ओये 
हां मै हुं बदतमीज तेरा नाम लेती हुं..
तेरा नाम लेना भी अब दिल का धड़कना सा बन गया है
समझ नहीं आता जिन्दगी सांसों से चल रही है या तेरे नाम से...!!


****************************************************


सुनो आप 
चाय सा इश्क़ है तुमसे..
जल्दी online नही आते हो तो सर दर्द हो जाता है...!!


****************************************************


 हुकुम 

तुम मनाने के तरीके खुद मुझे बताते हो..

रूठ जाते हो जब तो ज्यादा मुस्कुराते हो...!!


****************************************************


आज बारिश में तेरे संग नहाना है
सपना ये मेरा कितना सुहाना है..
बारिश की बूँदे जो गिरे तेरे होंठो पे
उन्हें अपने होंठो से उठाना हैं...!!



****************************************************


सुनो जान 
और बढ़ गई है तलब पीने के बाद..
हाए ये कैसा नशा मिलाए हो लबों के जाम में...!!



****************************************************

 सुनो जान 

सुकुं हमको भी अब पूरा नहीं है..

बैचैन पहले से ज्यादा हो गए हैं...!!



****************************************************


****************************************************

सुनो जान 

जब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है..

जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाई की इश्शशशश...!!



****************************************************

सुनो जान

ये सावन का मौसम और गंगा घाट का किनारा हो..

चाय के दो कुल्हड़ और साथ तुम्हारा हो...!!


****************************************************


सुनो जान 
महकता हुआ जिस्म मेरा गुलाब जैसा है
नींद के सफर में तू ख्वाब जैसा है..
दो घूँट पी लेने दे आँखों की मस्तियाँ 
नशा तेरी कत्थई आँखों का शराब के जाम जैसा है...!!


****************************************************

सुनो

 खामियाँ निकालने वाले तो बहुत आये थे..

मेरी खामियों से इश्क़ करने वाले सिर्फ तुम हो...!!


****************************************************

सुनो जान

मै कुछ और जो लिखूं तो गुम जाता है..

मुझे सिर्फ एक ही शब्द " तुम " आता है...!!


****************************************************

 सुनो जान 

बरसात में घुल रही है महक अदरक की..

आज बूंदो को भी चाय की तलब लगेगी...!!


****************************************************

सुनो

मैंने इश्क़ की आग जलाकर मोहब्बत की..

आँच पर प्यार के कुल्हड़ में प्रेम की चाय बनाई है पीने आ जाओ ना...!!


****************************************************




****************************************************

सुनो जान

कोई ऐसा तरीका बता कि तेरी आवाज चूम लूं..


उफफ ये मुझको 'मेरी जान कहके बुलाना तेरा...!!



****************************************************


इन्तेजार भी है मोहब्बत भी है  जिद्द भी है..

बस तुमसे मिलने का नसीब नही है...!!


****************************************************


तकलीफ होगी आपके नाजुक ख्यालों को..

यूं अकेले बैठकर हमें सोचा न कीजिए…!!


****************************************************


कुछ इस तरह से मुझे वो गले लगा के गया..

के जिस्म छोड़ गया, रूह साथ ले के गया...!!


****************************************************


ज़िन्दगी जीनी है तो तकलीफ तो होगी ही..

वरना मरने के बाद तो जलने का भी एहसास नहीं होता...!!


****************************************************


****************************************************

दिल बहलाने  वाली हज़ार मिलेंगी लेकिन मुझे..

तो दिल  से चाहने वाली  चाहिए…!!



****************************************************

Post a Comment

0 Comments