Love Shayari In Hindi Sad Shayari Romantic Shayari

SAD शायरी के दीवाने हम  दोस्तों आज लाया हु कुछ दिल के मीठे दर्द की दाशतान बया करने वाली शायरिया पढ़िए और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिये और ज़िंदगी के उस पल के यादों को मह्सुश कीजिये जो पके साथ हुवा पर सकारत्मक सोच के साथ ऐसा नहीं की आप दुखी हो जाओ  



                                    this picture download YourQuote.in  my account all picture

जरुरी नहीं कि नजदिकीयों में ही प्यार हो..
फांसलो में भी इश्क़ की बुलंदियां देखी है हमने...!!

***************************************


तकिये पर अश्क़ देख कर सवाल सौ उठे..

हँसकर हमने कह दिया ख्वाबों के दाग हैं...!!


**************************************


इश्क़ में टूटा कही का नहीं रहता...!!

*************************************

तू मसरूफ़ है कितना, हमें फुरसत कितनी है..
छोड़ ये झगड़े बस देख मुहब्ब्त कितनी है...!!

**************************************

मैं ख़्वाब लिखूं तुम मुकम्मल कर दो..
मैं इश्क़ लिखूं तुम बाहों में भर लो...!!




हुस्न में नज़ाक़त इश्क़ में शराफत..
ऊफ़्फ़.
एक मरने न दे दूजा जीने न दे...!!

****************************************


हंसता खेलता दिल उजाड़ दिया..
मोहब्बत के नाम पर दगा दे कर...!!

******************************************


मुहब्बत की दहलीज का अपना उसूल है..
मुड़कर देखोगे तो आँखें भर आयेंगी...!!



न हारेंगें हम हौंसला इस बात की तसल्ली रखिये..
जो यूँही मिट जाना होता तो कब के मिट गए होते..!!

******************************************


अब आलम ये है के तन्हाई से तंग आकर..
खुद ही दरवाज़े की जंजीर हिला देते है...!!


******************************************




****************************************

जब भी तन्हाई में जी लेने की बात आई..
तुमसे हर एक मुलाकात मुझे याद आई
…!!

****************************************

जैसे चाहे नचा ले तू इशारे पे मुझे ए तकदीर.. 
तेरे ही लिखे हुए अफसाने का किरदार हू मै...!!

***************************************

कोई पूछे जरा जा कर उस 'पागल' से..
अश्क छुपते है क्या कभी 'काजल' से...!!

*************************************

ग़लत फहमी की गुंजाइश नहीं सच्ची मुहब्ब्त मेँ..
जहां किरदार हल्का हो कहानी डूब जाती है...!!
 


*******************************************

दरिया की दहलीज पर बैठी सोच रही ऐ आँखे..
आखिर कितना बक्त और लगेगा सारे ख्बाब बहाने में...!!

****************************************

रात बड़ी मुशिकल से खुद को सुलाया है मैंने..
अपनी आँखों को तेरे खवाब का लालच देकर...!!


***************************************

इश्क़ की फ़ितरत में बरक़त नहीं हुआ करती
दोस्त..
ये तो दिल भी लेता हैऔर जान भी...!!


**************************************************




खो" देते हैं फिर
"
खोजा" करते हैं
यही खेल हम जिन्दगी भर "खेला" करते हैं...!!

*************************************

तुम्हें लौटा रहा हूँ ख़त तुम्हारे..
कभी तुम क्या थे तुम खुद देख लेना...!!

*************************************


धागा खत्म हो गया था तुम्हें मन्नतों में मांगकर..
इस बार दिल बांध आया हूं तुम्हारे नाम पर...!!

**************************************



तू तो नफ़रत भी न कर पाएगी उस शिद्दत के साथ..
जिस अदा से हमने तुझसे प्यार किया है ऐबेख़बर...!!

***************************************

ढूँढोगे जब उजड़े रिश्तों में वफ़ा के खज़ाने..
मेरे बाद मेरे हमनामों का भी अहतराम करोगे...!!

****************************************

कितनी मासूम होती है ये दिल की धड़कनें..
कोई सुने ना सुने ये खामोश नही रहती...!!

****************************************


हम statusडाल सारा 'दर्द' कहते हैं..
यहां 'कन्धे' पर सिर रख 'रोता' कौन है...!!


*************************************
                   धन्यवाद 

Post a Comment

0 Comments