Romantic Shayri Hindi , Best 30+ Love Shayri july 2019

हिंदी रोमांटिक शायरी और  प्यार भरे अहसाह   जो आपके दिल के कोने कोने मै हलचल मचा दे और बुजुर्ग को जवानी के दिन याद दिला दे जवान लोगो का दिल उमड़ घुमड़ कर दे दोस्तों पढ़िए और शेयर कीजिये और फॉलो भी कीजिये मेरे ब्लॉग को धन्यवाद दोस्तों।।




Hindi romantic shayri



सुनो
तुम्हारे ऊपर वाले होंठ पर एक मुकदमा करना है..
दिन भर मेरे अरमानों को दबा, मेरी ख्वाहिशें चूमता रहता है...!!!





साड़ी के पल्लू को कमर में यूँ ना सरेआम दाबा करो..
कमर के तो पता नही दिल हमारा लचक सा जाता हैं...!!!



पायल घुंगरू  बिंदिया काजल सब पड़े रहने दो..

खींच के झुल्फों को बांधो एक लट गालो पे रहने दो...!!!



कुछ न कहती है वो बस मुस्कुराती है वो..

पढ़ना पढता है आँखों को उसकी बड़ा शर्माती है वो...!!!



सावन की झड़ी तो डबल वालो की है..
हम सिंगलो का तो मानसुन ही आया है...!!!

कभी यूँ भी हो...चाय हाथ मे लिए..

हम तेरे घर की बालकोनी में बैठे हों...!!!


सुनो जान
दिल की धड़कने भी तेज़ हो जाती हैं..
जब तेरी आँखें शिर्फ़ मुझे निहारती हैं...!!!

अगर देखनी है कयामत तो चले आओ हमारी महफिल मे..
 सुना है आज की महफिल मे वो बेनकाब आ रहे हैँ…!!!


चाय के प्याले में गम सारे घोल कर..
हम सुकून से बैठ गए फेसबुक खोल कर...!!!


इश्क तो बातों से ही हुआ करता है जनाब..
शक्ल देखकर तो शादियां हुआ करती है..!!! 


कहीं तो लिखती होगी वो दिल की छुपी बाते..
कहीं तो किसी पन्ने पर मेरा भी नाम होगा...!!!


तुम"अगर जानना चाहते हो कि हमे किस से प्यार ह..
तो पहला शब्द दोबारा पढ़लो...!!!


रेस वो लोग करते है, जीसे अपनी किस्मत आजमानी हो..
हम तो वो खिलाडी है जो अपनी किस्मत के साथ खेलते है...!!!


जमीर हमेशा सच्चाई से महकते रहना चाहिये..
क्योंकि कागज़ के फूलों पर तितलियां नही बैठा करती...!!!

वो नूर का झरना,मैं प्यास पुरानी..
मैनें आँखों से पिया उसके इश्क का पानी...!!!


प्रीत न कीजै पंछी जैसी जल सूखे उड़ जाए..
प्रीत करो मछली जैसी जो जल सूखे मर जाये...!!!


दिल को जो अच्छा लगे उनसे ही प्यार करो..
आँखों का क्या इन्हें तो सब अच्छे लगते है...!!!


प्यार तो ऐसा होना चाहिए कि इधर.. 
मैं याद करूँ और उधर वो गुलाटियाँ मारती हुई आए...!!! 


अगर ज़िंदगी दोबारा मिली तो..
अगली बार तुझे अपने हक़ में लिखवा के आएंगे...!!!


तकदीर के लिखे पर कभी शिकवा ना कीजिये साहेब..
हम इतने अक्लमंद भी नहीं जो खुदा के इरादे समझ सकें...!!!



फ़रिश्ते आकर उनके मुहं से खुशबू चुराते हैं..
जो उपवास रख कङकती धूप में मन्दिर को जाती हैं...!!!


दिल की बातों को होठों से नहीं कहते..
ये तो वो फ़साना है जो निगाहों से बयाँ होता है...!!!


उसके जैसी ही बेटी दुआओ में मांगूंगा..
जब उसने छोड़ा था मुझे बाप की इज्जत की खातिर...!!!


बहुत खूबसूरत है ये पूरी क़ायनात..
फिर भी तेरे ख्याल से दिलकश कुछ भी नहीं...!!!


जिसमें फ़ना है कई जज़्बात के समुंदर..
 वही एक क़तरा इश्क हूँ मैं...!!! \


वो मासूम सी चाहत अपने नाम के साथ..
तेरा नाम लिखना और उसे चूमना इश्क है...!!!


हम तो लिख देते हैं जो भी दिलमें आता है हमारे..
आपके दिल को छू जाए तो 'इत्तफाक' समझिये..!!!


लगा कर इश्क़ की बाज़ी सुना है दिल दे बैठी हो..
मोहब्बत मार डालेगी अभी तुम फूल जैसी हो...!!!


ये खुली-खुली सी जुल्फें इन्हें लाख तुम सँवारो..
जो मेरे हाथ से सँवरतीं तो कुछ और बात होती...!!!


अच्छा सुनो 
सफेद सलवार पर पीला कुर्ता ना पहना करो..
कल मम्मी बोल रही थीं देख तेरी कढ़ी चावल आ गई...!!!



हमनें हाथ फैला कर इश्क मांगा था..
सनम ने... बाहों में भरकर जान निकाल दी...!!!


इक तो बनती नहीं वैसे ही क़बीले से मेरी..
उसपे सरदार की बेटी से माेहब्बत है मुझे...!!!


यूँ तो तेरी तस्वीरें बहुत हैं पास मेरे..
बस वो बिखरी जुल्फें हर तस्वीर में नज़र नहीँ आती...!!!





















Post a Comment

0 Comments